Back

कोरोना: वोट के लिए गली-गली पर्चे बाँटने वाले अमित शाह आज राशन क्यों नहीं बाँट रहे हैं! 15 दिन से गायब है

कोरोना: वोट के लिए गली-गली पर्चे बाँटने वाले अमित शाह आज राशन क्यों नहीं बाँट रहे हैं! 15 दिन से गायब है


हजारों की संख्या में बिहार और यूपी के मजदूर दिल्ली से पैदल अपने घर निकले हैं. एनएच 24 पर हजारों की संख्या में मजदूरों और कामगारों के वीडियो सामने आ रहे हैं. भारी संख्या में लोग अपने घर के लिए निकले हैं.

पत्रकार रवीश कुमार और अजीत अंजुम ने कुछ वीडियो और सूचनाएं शेयर की हैं, जो विचलित करने वाली हैं. दिल्ली से हजारों की संख्या में लोग पैदल अपने घरों के लिए निकल रहे हैं. ये कामगार वर्ग के लोग हैं.

एएनआई ने भी यूपी बॉर्डर का एक वीडियो ट्वीट किया है जिसमें भारी संख्या में लोग दिख रहे हैं. इन सभी वीडियो में देखा जा सकता है कि लोगों की संख्या काफी ज्यादा है, जैसे कुंभ मेले में लोग दिखते हैं.

अजीत अंजुम ​बता रहे हैं कि ​मीडिया ने अफवाह फैलाई कि बॉर्डर से बसों का इंतजाम किया गया है. इसके बाद एनएच 24 पर हज़ारों की संख्या में लोग उमड़ पड़े.

यह मीडिया तो जैसे देश का दुश्मन बन चुका है. मीडिया वालों से अपील है कि हो सके तो कुछ दिन अफवाह मत फैलाइए. महामारी बीत जाएगी, उसके बाद फिर से हिंदु मुसलमान ​जाहिलों को लड़ाने का मौका मिलेगा ही.

प्रियंका गांधी ने भी एक वीडियो जारी करके कहा है कि ‘दिल्ली के बॉर्डर पर त्रासद स्थिति पैदा हो चुकी है. हजारों की संख्या में लोग पैदल अपने घरों की तरफ निकल पड़े हैं. कोई साधन नहीं, भोजन नहीं. कोरोना का आतंक, बेरोजगारी और भूख का भय इनके पैरों को घर गांव की ओर धकेल रहा है. मैं सरकार से प्रार्थना करती हूं कृपया इनकी मदद कीजिए.’

आजकल दिल्ली में चुनाव नहीं हैं, इसलिए बिहारी राजनीति करने वाले सब जीव जंतु हाइबरनेशन में चले गए हैं. चुनाव होता तो तमाम नचनिया बजनिया गली गली में कूद रहे होते. कुछ दिन पहले फर्जी लौहपुरुष भी पर्चा बांटते पाए गए थे. अब वे भी दस पंद्रह दिन से गाय​ब चल रहे हैं.

इतनी बड़ी संख्या में लोगों का निकलना पुलिस के लिए भी परेशानी का सबब है. यह खतरनाक है. अपने आसपास के लोगों से कहें कि वे कहीं न निकलें. सरकार को तुरंत और प्रभावी कदम उठाना चाहिए.


रिपोर्टर शोएब म्यानुंर