Back

मुंबई: बॉलिवुड का खौफ, कई मर्डर...गिरफ्त में गैंगस्टर रवि पुजारी की पूरी क्राइम कुंडली बेंगलुरु लाया गया।

मुंबई: बॉलिवुड का खौफ, कई मर्डर...गिरफ्त में गैंगस्टर रवि पुजारी की पूरी क्राइम कुंडली बेंगलुरु लाया गया।


रंगदारी और हत्या समेत करीब 200 मामलों में वॉन्टेड कुख्यात गैंगस्टर रवि पुजारी को रविवार को भारत लाया गया। करीब तीन दिन RAW, IB और कर्नाटक पुलिस के अधिकारी उसे भारत लाने के लिए दक्षिण अफ्रीका के सेनेगेल में डेरा डालकर बैठे थे।


बेंगलुरु

करीब 20 साल से एजेंसियों की पकड़ से बाहर रहे कुख्यात गैंगस्टर रवि पुजारी को रविवार को रीसर्च ऐंड अनैलेसिस विंग (RAW) और कर्नाटक पुलिस अधिकारी के भारत लेकर आए जो तीन दिन से उसकी कस्टडी के लिए दक्षिण अफ्रीका सेनेगेल में डेरा डाले बैठे थे।

पैरिस के रास्ते पुजारी को भारत लाने वाला प्लेन रविवार दोपहर दिल्ली पहुंचा। अबू सलेम, छोटा राजन, एजाज लकड़वाला के बाद पुजारी को भारत लाया जाना एक बड़ी सफलता के तौर पर देखा जा रहा है। पुजारी पहले सेनेगल में पकड़ा गया था और फिर जमानत पर रिहा होने के बाद 13 महीने पहले फरार हो गया थ। उसे शनिवार को दक्षिण अफ्रीका के दूरस्थ गांव में पकड़कर वापस सेनेगल ले जाया गया।


सीधे अस्पताल ले जाया गया डॉन

भारत लाए जाने के बाद पुजारी को एक अज्ञात जगह पर ले जाया गया जहां RAW, इंटेलिजेंस ब्यूरो और केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने उससे पूछताछ की जो चार घंटे से ज्यादा चली। सूत्रों के मुताबिक पुजारी को हाई ब्लड प्रेशर और डायबीटीज की परेशानी थी। कर्नाटक के डीजी और आईजीपी प्रवीण सूद ने बताया कि पुजारी को कर्नाटक पुलिस को सौंपने से पहले अस्पताल चेक-अप के लिए ले जाया गया। इसके बाद शाम को बेंगलुरु ले जाया गया।


सेनेगेल से लाने में थीं अड़चनें

कर्नाटक के गृहमंत्री बसवराज बोम्माई ने बताया कि विदेश मंत्रालय ने पुजारी के डिपोर्टेशन के लिए कोऑर्डिनेट किया था। उन्होंने बताया कि पुजारी को जल्द बेंगलुरु लाया गया। बीच में जो कानूनी अड़चनें थीं, उन्हें सुलझा लिया गया। सेनेगेल ने भारत लाए जाने के दौरान पुजारी के साथ बेंगलुरु पुलिस के अधिकारी, जॉइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस संदीप पाटिल और अतिरिक्त डीजीपी अमर कुमार पांडे मौजूद थे।


200 मामलों में वॉन्टेड

उसके खिलाफ बॉलिवुड स्टार्स और कई नामचीन कारोबारियों को उगाही के लिए धमकाने, हत्या सहित करीब 200 केस दर्ज है। इनमें से 90 केस कर्नाटक के हैं जिनमें से 39 बेंगलुरु और 36 मेंगलुरु के हैं। सबसे चर्चित मामला बिल्डर ओमप्रकाश कुकरेजा की हत्या और सांसद मजीद मेमन की हत्या की कोशिश का था। इंटरपोल ने पुजारी और उसकी पत्नी पद्मा दोनों के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटस जारी किया था।


कौन है रवि पुजारी

रवि पुजारी का जन्म कर्नाटक में मेंगलुरु के माल्पे में हुआ। अंग्रेजी, हिंदी और कन्नड़ भाषाओं का जानकार पुजारी लगातार क्लास में फेल होने के कारण स्कूल से बाहर ही रहा। उसके परिवार में पत्नी, 2 बेटियां और एक बेटा है। 28 साल के बेटे की हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में शादी हुई है। 1990 में पुजारी मुंबई के अंधेरी में रहता था और वहां वह अन्य खतरनाक अपराधियों के साथ गैंगस्टर छोटा राजन के करीब आया। जल्द ही विजय शेट्टी और संतोष शेट्टी के साथ पुजारी भी छोटा राजन के गैंग में शामिल हो गया। 1995 में बिल्डर प्रकाश कुकरेजा की चेंबूर में हत्या कर यह गैंग अचानक सुर्खियों में आ गया।


बनाया खुद का गैंग

2000 में बैंकॉक में छोटा राजन पर दाऊद इब्राहिम के गुर्गों के हमले के बाद उसने खुद का गैंग बनाया। बाकी अपराधियों की तरह ही उसने दुबई से उगाही का धंधा शुरू किया। 2003 में नवी मुंबई में बिल्डर सुरेश वाधवा की हत्या की कोशिश की और 2005 कथित रूप से पुजारी के इशारे पर वकील मजीद मेनन का मर्डर की कोशिश।


खत्म करना चाहता था...

कुछ साल पहले एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में रवि पुजारी ने खुद को 'देशभक्त डॉन' के रूप में पेश किया। उस इंटरव्यू में पुजारी ने कहा कि वह हर उस शख्स को खत्म कर देना चाहता है, जिसका लिंक दाऊद इब्राहिम, छोटा शकील और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से है।


रिपोर्टर नदीम शैख मुंबई